gps kya hai

GPS Kya Hai? GPS कैसे काम करता है – GPS के उपयोग (हिंदी में)

हैलो फ्रेंड्स! स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग Hindisolutions में आज हम आपको बतायेगे की GPS Kya Hai और यह कैसे काम करता हे | पिछली पोस्ट में हमने आपको URL Kya Hota Hai बताया था में उम्मीद करता हु की आपको मेरे द्वारा दी जानकरी अच्छे से समझ में आई होगी |
आप सभी ने जीपीएस का नाम कही ना कही जरुर सुना ही होगा आज हम आपको बतायगे की इसका उपयोग किस तरह से किया जाता हे और यह कहाँ-कहाँ पर उपयोग में लाया जाता हे | सबसे पहले हम आपको बतायेगे की GPS Kya Hota Hai और शुरू करते है What is GPS in Hindi 

GPS की फुल फॉर्म होता है “Global Positioning System

GPS Kya Hai

GPS एक Global Navigation Satellite System है जो की किसी भी चीज की लोकेशन पता करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है इस सिस्टम को सबसे पहले अमेरिका के Defense Department ने 1960 में बनया था |

उस समय ये सिस्टम सिर्फ US Army के इस्तेमाल के लिए बनाया गया था | लेकिन बाद में 27 April 1995 ये सभी के लिए बनाया गया GPS – ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम एक सैटेलाइट आधारित नेविगेशन सिस्टम है जो लोकेशन और समय जैसी सूचना बताता है | आज GPS हम सभी के मोबाइल में रहता है और इस Technology का सबसे ज्यादा इस्तेमाल Navigation या रास्ता ढूढने के लिए किया जाता है | युवा पीढ़ी आज इसका इस्तेमाल रास्ता ढूंढने में सबसे ज्यादा केरी है |

GPS कैसे काम करता है

आप सभी सोच रहे होंगे की यह किस तरह से काम करता हे तो हम आपको बता दे की यह एक 32 सैटेलाइट्स का एक समूह है जो पृथ्वी के ऊपर 26,600 किमी की ऊंचाई पर ऑर्बिट में है। सैटेलाइट्स का पूरा control अमेरिकी विभाग के पास होता है |लेकिन कोई भी इन सैटेलाइट्स के सिग्‍नल का उपयोग कर सकता है  बशर्ते उनके पास एक रिसीवर होना चाहीए जो इसके सिग्नल को भेज सके |

GPS रिसीवर के साथ काम करता है जो सैटेलाइट से मिले डाटा की गणना करता है। और की हुई गणना को ट्राइएंगुलेशन कहते हैं जहां पोजिशन कम से कम एक बार में तीन सैटेलाइट की मदद से पता की जाती है। GPS को काम करने के लिए मुख्य दो चीजों की आवश्यकता होती है | पहला GPS रिसीवर जो किसी सैटेलाइट से खुद को दूरी को मापता है और दुसरा जब सैटेलाइट की पोजीशन का पता चल जाता है तो GPS रिसीवर को उस तक उसके मापे गये सिग्नल को भेजना होता है |

यह भी पढ़े: Bitcoin Kya Hai? Bitcoin ke फायदे और नुकसान (हिंदी में)

GPS service के दो लेवल हे

Standard Positioning Service (SPS)

sps L1 फ्रीक्वेंसी पर coarse acquisition (C/A) कोड का इस्‍तेमाल करती हैं और Precise Positioning Service (PPS) जो L1 और L2 दोनों फ्रीक्वेंसी पर P(Y) कोड का इस्‍तेमाल करती हैं।

PPS

pps का एक्‍सेस यूएस आर्म्ड फोर्स ( US)  यूएस फेडरल एजेंसीज (USFA) और सिलेक्‍टेड आर्म्ड फोर्स और गर्वनमेंट के लिए प्रतिबंधित है। होता हे वह इनका इस्तेमाल नही कर सकते हे | जबकि SPS विश्वव्यापी आधार पर उपलब्ध है। जिसका उपयोग सभी लोग क्र सकते हे और यह किसी भी देश को अपनी सुविधा उपलब्ध करवा सकता हे |

Uses of GPS in Hindi

दोस्तों हम आपको GPS के उपयोग के बारे में बताएँगे की इसका कहा कहा उपयोग किया जाता हे | पहले इसका इस्तेमाल सिर्फ मिलटरी में ही होता था लेकिन बाद में इसे आम लोगों के इस्तेमाल के लिए भी शुरु किया गया। और तब से ही इसे कई जगहों पर इस्तेमाल किया जाने लगा है।

जेसे – एस्ट्रोनॉमी, कार्टोग्राफी, ऑटोमेटेड व्हीकल्स, मोबाइल फ़ोन्स गुम हो जाने पर  फ्लीट ट्रैकिंग, जियोफेंसिंग, जियो टेगिंग, GPS एयरक्राफ्ट ट्रैकिंग, डिजास्टर रिलीफ, इमरजेंसी सर्विसेज जेसे ( आपात या बाढ )  व्हीकल्स के नेविगेशन ( वाहनों को रास्ता बताने में ) रोबोटिक्स ( रोबोट को navigate करने के लिए ) समेत कई जगहों पर GPS का इस्तेमाल होता है। आज वर्तमान में इकसा उपयोग आपनी car की साफ्टी और यूज़ चोरी होने से बहाने में किया जाता हे | और किसी भी फ़ोन में अपनी location share करने के लिए करते हे | इस तरह कई तरह से आज GPS का उपयोग किया जाता हे |

Conclusion

तो दोस्तों आज की पोस्ट में हमने आपको बताया की GPS Kya Hota Hai यह कैसे कम करता है इसके उप्योग क्या है | आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी हमे Comment Box में Comment करके जरूर बताये |

धन्यवाद् 🙂

Summary
Review Date
Reviewed Item
GPS Kya Hai? GPS कैसे काम करता है - GPS के उपयोग (हिंदी में)
Author Rating
51star1star1star1star1star
Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *