Neem ke fayde

Neem ke Fayde aur Nuksan – Neem ke Upyog [हिंदी में]

नमस्ते दोस्तों , में शेखर कुमावत आपका हमारे ब्लॉग Hindisolutions में स्वागत करता हु , दोस्तों हमने आपको हमारी पिछली पोस्ट में Tulsi ke Fayde बताये थे , दोस्तों आशा करता हु की आपको वो पोस्ट पसंद आई होगी |
आज हम आपको Neem ke Fayde बताएँगे की इसके क्या क्या फायदे हो सकते हे | हम नीम को एक कडवे पेड़ के रूप में ही जानते जो की बहुत ही कड़वा होता हे और उसे खाया नही जा सकता हे परन्तु यह इतना कड़वा होने के बावजूद आज आयुर्वेद में इसका सबसे ज्यादा उपयोग होता हे और इसे कई दवाइयों में इसका उपयोग किया जाता हे |

Neem Tree in Hindi

नीम एक तरह की जडी बूटी हे,इसके कई फायदे हे नीम आयुर्वेदिक के साथ साथ यह यूनानी और होम्योपेथिक चिकत्सा पद्दति की दवाओ में भी काम आती हे|

नीम एक ऐसा पेड़ हे जिसका का हर हिस्सा काम आता हे जेसे उसकी छाल, पत्ती, गुठली, टहनी, हर चीज में कोई न कोई औषधीय गुण मौजूद होता हे जो किसी न किसी तरह के रोगों को दूर करता हे, आज Neem ka Upyog सबसे ज्यादा सौंदर्य सम्बन्धित दवाइयों और चर्म रोगों को दूर करने में किया जाता है |

नीम को Azadirachta indica के नाम भी जाना जाता है |

आज हम आपको Neem ke Fayde in Hindi बतायगे जिनका उपयोग आप अपनी बीमारियों को दूर करने के लिए कर सकते हे | नीम का उपयोग द्वाइयो के रूप में तो होता ही हे साथ ही इसका पेड भी कई तरह के रोगों को दूर करता हे यदि आप चाहे तो इसका पेड अपने घर के सामने या अपने आसपास जरुर लगाये इससे आपको शुद्ध हवा मिलती हे और यह पर्यावरण को भी शुद्ध रखता हे |

Neem ke Fayde

  • स्किन के जलने पर

अगर आप खाना बनाते वक्त या किसी दूसरे कारण से अपना हाथ या पाँव जला बठे हैं तो तुरंत उस जगह पर नीम की पत्तियों को पीसकर लगा लें, या नीम का तेल लगा ले इसमें मौजूद एंटीसेप्टिक गुण घाव को ज्यादा बढ़ने नहीं देता है| और यह जले हुई जगह पर होने वाली जलन को भी कम करता हे |

  • बालों में नीम का उपयोग

नीम एक बहुत अच्छा कंडीशनर है. इसकी पत्तियों को पानी में उबालकर उसके पानी से बाल धोने से रूसी और फंगस जैसी समस्याएं दूर हो जाती हैं| और बालो को पूरा पोषण मिलता हे और बाल स्वस्थ रहते हे आगे इसके साथ आप Neem ka Tel भी उपयोग करते हे तो यह आपके बालो को रूखेपन से छुटकारा दिलाते हेअगर आप लम्बे समय तक नीम का उपयोग करते हे तो यह आपके बालो को झड़ने से बचाता हे |

  • दाँतो के लिये

आज हम टूथपेस्ट के रूप में कई एनी तरहा की चीजे यूज़ करते हे किन्तु फ्ल्ले के समय में सिर्फ नीम की टहनी से ही दाँतो को साफ किया जाता था पहले Neem ki Datun , ब्रश की तुलना में ज्यादा लोकप्रिय थी. एक ओर जहां दांतों और मसूड़ों की देखभाल के लिए हम तरह-तरह के महंगे टूथपेस्ट इस्तेमाल करते हैं वहीं नीम की दातुन अपने आप में पर्याप्त होती है. नीम की दातुन पायरिया की रोकथाम में भी कारगर होती है. और यह दाँतो की पीलेपन को भी दूर करता हे |

जरूर पढ़े: Aloe Vera ke Fayde (हिंदी में) | Hindisolutions

  • स्किन प्रॉब्लम में नीम का उपयोग

नीम का उपयोग सबसे ज्यादा स्किन प्रोब्लेम्स में ही किया जाता हे | अगर आपको किसी तरह की स्किन प्रोब्लमस हे तो आप नीम के द्वारा स्किन से जुडी हुई समस्याओं को दूर कर सकते हे | नीम के अन्दर जिवानुरोधी ( antibiotic ) गुण होते हे | जो की चेहरे पर होने वाली झुर्रियों और दाग धब्बो को दूर करता हे | Neem ki Patti ke Fayde भी अनेक है |नीम के पत्तो का पेस्ट बना चेहरे पर लगाने से उसकी सुन्दरता बढ़ेगी और साथ हे चेहरे से जुडी हुई एनी समस्याओ से भी मुक्ति मिलेगी |

  • फोड़े फुंसियो को दूर करने में

कई बार किसी वजहा से या खून साफ न होने की वजह से फोड़े हो जाते हैं. ऐसे में नीम की पत्ती को पीसकर प्रभावित जगह पर लगाने से फायदा होगा साथ ही इसके नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर नाहने से शरीर और चेहरा साफ रहता हे | इसके पानी से नहाने से शरीर में होनी वाली दुर्गन्ध को भी मिटाया जा सकता हे  |

  • कान दर्द को दूर करने के लिए

अगर आपके कान में दर्द रहता है तो Neem ka Oil इस्तेमाल करना काफी फायदेमंद रहेगा. कई लोगों में कान बहने की भी बीमारी होती है, ऐसे लोगों के लिए भी नीम का तेल एक कारगर उपाय है | नीम का तेल कुछ समय तक नियमित रूप से डालने पर कान के दर्द में आराम मिलेगा | और साथ ही यह श्रवण शक्ति को भी बढाता हे |

  • सूजन के लिए

नीम का उपयोग पारंपरिक भारतीय आयुर्वेदिक चिकित्सा में गठिया दर्द और सूजन को कम करने के लिए किया जाता रहा हे और रोग को बढ़ने से रोकने के लिए नीम के पत्ते और बीज और छाल को उपयोग में लाया जाता रहा हे | पुराने जमाने से इसका लेप बना कर इसका उपयोग किया जाता हे |

  • सर में जूँ के लिए

आज के समय में अगर सर में किसी को जूँये हो जाती हे तो आज मेडिकल से बहुत तरह की दवाईया उपयोग होती हे मगर पहले लोग नीम का उपयोग जुए को मारने के लिये करते थे

  • केन्सर के लिए

नीम का उपयोग कैंसर की बेमारी में भी उपयोग होता हे इसमे नीम की पत्ती का उपयोग होता हे नीम के पत्तीयो में कई तरह के घटक पाये जाते हे |

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: Ashwagandha Benefits (हिंदी में) – अश्वागंधा में नुकसान व फायदे | Hindisolutions

Neem ke Nuksan

आज तक आपने यही सुना होगा कि नीम के अनगिनत स्वास्थ्यवर्द्धक फायदे होते हैं मगर जब आप नीम की सामान्य मात्रा लेते हैं। उस का कोई दुष्प्रभाव नहीं होता जबकि Neem ka Upyog बच्चो के लिये फायदेमन्द नहीं होता हे क्योंकि इसमे मौजूद पदार्थ शिशुओं के लिए सही नहीं है गर्भवतियो के लीये भी नीम नुकसान दायक होती हे |

मधुमेह के रोगीयो के लिए भी यह फायदा तो करता हे पर इसे चिकित्सक की निगरानी में इसका प्रयोग करना चाहिए नीम का उपयोग आखो को भी नुकसान देता हे जब आप Neem ka tel को अपने बालो में लगाते हे तो बालो को साफ करते समय यह आप की आखो को भी नुकसान पहुचाता हेएक सामान्य नियम के रूप में यह ब्लड शुगर को कम कर सकता है। इसलिए जब भी आपने उपवास किया हुआ हो तब आपके लिए यह बेहतर होगा कि आप नीम का सेवन न करें।

Conclusion

तो दोस्तों हमने आज की पोस्ट में Neem ke Fayde बताये है, उम्मीद करता हु की हमारी पोस्ट आपको पसंद आई होगी, तो दोस्तों इस पोस्ट को पढ़िए और नीम के फायदे और Neem ke Nuksan के बारे में जानिये, दोस्तों आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी, हमे कोमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताये |

धन्यवाद् 🙂

Summary
Review Date
Reviewed Item
Neem ke Fayde aur Nuksan - Neem ke Upyog [हिंदी में]
Author Rating
51star1star1star1star1star
Rate this post

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *