pathri ka ilaj

Pathri ka ilaj aur Lakshan- Kidney stone [हिंदी में]

नमस्ते दोस्तों में शेखर कुमावत आपका हमारे ब्लॉग Hindisolutions में स्वागत करता हु , दोस्तों आपको हमने हमारी पिछली पोस्ट में Neem ke Fayde बताये थे, आशा करता हु आपको हमारी पिछली पोस्ट पसंद आई होगी |
आज हम आपको Pathri kya Hai? और इसका इलाज क्या हे और इसके होने के कारण बतौएगे आज भारत में यह बीमारी आम सी हो गई हे इसके रोगी में आपको हर उम्र के लोग मिल जायेगे आज यह छोटो बच्चो से लेकर बड़े लोगो तक में हो रही हे |

Pathri in Hindi

जिसमे किडनी स्टोन ज्यादा मात्रा में होती हे पथरी बनने का मुख्य कारण कैल्शियम की जमावट हे जो मूत्राशय की नलि में रूकावट पैदा करता हैं। इसका संबंध हाइपर पैराथायरॉइडिजम से भी होता है। यह अंतस्त्रवी ग्रंथियों से जुडी एक विकृति है जिसकी वजह से पेशाब में कैल्शियम की मात्रा बढ जाती है।

यदि यह कैल्शियम पेशाब के साथ बाहर निकल जाए तो बेहतर है वर्ना यह गुर्दे की कोशिकाओं में एकत्र होता रहता है और पथरी ( एक प्रकार का छोटा पत्थर) का रूप ले लेता है। जो की समय पर ठीक ना होने के कारण बढ़ता जाता हे |

पथरी जिसे Kidney Stone भी कहा जाता है |

यह समस्या अत्यधिक कैल्शियम वाले आहार के सेवन करने से होती है। कैल्शियम ऑग्जेलेट या फॉस्फेट के कण शरीर में अत्यधिक मात्रा में हों तो वह पेशाब के जरिये पूरी तरह बाहर नहीं निकल पाते और एक जगह पर  एकत्रित  होने लगते हैं। और आगे चल के यही पथरी का रूप ले लेते हे |

Pathri ke Lakshan

यहां हम आपको Kidney stone ke Lakshan के बारे में बताएँगे जिससे आप बड़ी आसानी से यह पता लगा सकते हैं की आपको पथरी रोग हैं या नहीं कई बार ऐसा भी होता हैं की किडनी में स्टोन्स होता हैं और मरीज को पता ही नहीं चलता हैं आमतौर पर इनका साइज नमक के दानो से बड़ा और मक्का के दाने के बराबर हो सकता हैं यह साइज़ में बहूत ही छोटा होता हे कभी कभी यह बड़ा आकार नही लेता हे |

जरूर पढ़े: Cancer symptoms (हिंदी में) – कैंसर से बचने के उपाय 

आइये जानते हे Pathri ke Lakshan in Hindi जिनसे हम पता लगा सके की हमे पथरी हे या नही और हे तो उसकी स्थति क्या हे |

  • अगर आपको पेशाब करने के दौरान दर्द होता हे तो अपको पथरी हो सकती हे
  • इसके अलावा किडनी स्टोन्स की वजह से यूरिन का रंग भूरा गुलाबी लाल या ब्राउन भी हो सकता हैं |
  • यूरिन से बहुत गन्दी बदबू आने लगती हैं.|
  • लगातार यूरिन पास करने की इच्छा होना |
  • कभी कभी इसके इन्फेक्शन की वजह से बुखार और कप कापी आने लगती हे जो की पथरी का होने के हे लक्षण हे |
  • यूरिन पास करते समय कम मात्रा में यूरिन निकलना या फिर रुक-रुक के यूरिन का बहार आना |
  • पेशाब करने के दोरान खून का आना |
  • सामान्य से अधिक बार पेशाब करने की इच्छा होना और करने पर पेशाब का ना आना |
  • पथरी के कारण कभी कभी पेट में दर्द होता हे और पेट दर्द के कारण उल्टियां भी आने लगती हे |

Pathri ka Ilaj

पथरी में देर से पचने वाली गरिष्ठ चीजें सेवन न करें। आवश्यकता से अधिक मात्रा में भोजन कर शरीर का वजन न बढ़ाएं। दोस्तों अगर आप kidney stone ka ilaj घरेलु रूप से करना चाहते है तो आपको अपने खाने का बहुत ध्यान रखना होगा | आपका यह जानना जरूरी है की Pathri me Kya Khana Chahiye और Pathri me Kya Nahi Khana Chahiye ?

कोल्ड ड्रिक्स, मांस, मछली के सेवन से परहेज करें। फलों में स्ट्राबेरी, आडू, बेर, अंजीर, रसभरी तथा किशमिश, मुनक्का जैसे ड्राई फूट के सेवन से परहेज करें। दूध और दूध से बने पदार्थ दही, पनीर, मक्खन, टॉफी, कैन सूप, नूडल, तला हुआ , फ्राई फ़ूड, जंक फ़ूड, चिप्स चाकलेट, चाय का सेवन नहीं करना चाहिए इन सभी प्रकार के भोज्य पदार्थों में ऑक्सलेट होता है, जो पथरी का कारण बनता है, इसलिए पथरी की समस्या होने पर इनको नहीं खाना चाहिए । ये पदार्थ हैं- टमाटर, पालक, चौलाई, अंगूर (काले), आंवला, सोयाबीन, अजमोद, सोया मिल्क, चीकू , काजू, चॉकलेट, कद्दू, सूखे बींस, कच्चा चावल, उड़द और चने, नट्स (बादाम, अखरोट, काजू, मूंगफली आदि |

कुछ पदार्थों में पथरी बनाने वाले यूरिक एसिड और प्यूरीन जैसे तत्व होते हैं, लिहाजा पथरी की समस्या में इनके सेवन से भी बचना चाहिए। ये पदार्थ हैं- मांस, मछली, बैंगन, मशरूम, फूलगोभी।

उच्च फास्फोरस वाले पदाथों से भी पथरी के मामले में परहेज करना होगा। इनमें चॉकलेट, नट्स, कार्बोनेटेड ड्रिक्स, दूध, पनीर, सोया पनीर, सोया दही, फास्ट फूड, रेस्टोरेंट फूड आदि आते हैं।

क्रेन बेरी का जूस ठीक है या नहीं? पहले यह माना जाता था कि क्रेन बेरी का  जूस किडनी के लिए अच्छा है। यह न केवल पथरी में राहत देता है, बल्कि किडनी की अन्य अशुद्धियों को भी ठीक करता है। अब वर्तमान में कई अध्ययनों में यह सिद्ध हो गया है कि क्रेन बेरी का जूस पथरी और किडनी की समस्या के मामले में ठीक नहीं है। इसमें ऑक्सलेट पाया जाता है, जो पेशाब में मौजूद कैल्शियम के साथ मिलकर पथरी बनाने का काम करता है। चूंकि क्रेन बेरी को लेकर विवाद है, इसलिए पथरी के रोगी को इससे दूर ही रहना बेहतर रहेगा।

किडनी और पथरी की समस्या में चिकन, मांस आदि से परहेज करना चाहिए। इन पदार्थों में फैट तो ज्यादा है ही, प्रोटीन भी बहुत ज्यादा है। शाकाहारी लोगों को भी इस रोग में प्रोटीन कम ही लेना चाहिए। ज्यादा प्रोटीन से किडनी पर विपरीत असर पड़ता है। यदि ज्यादा प्रोटीन लेंगे तो हमारे मूत्र में सामान्य स्थिति से कहीं ज्यादा कैल्शियम बाहर जाएगा। साथ ही पेशाब में यूरिक एसिड और ऑक्सलेट का स्तर भी ज्यादा प्रोटीन से बढ़ जाता है। यह स्थिति हड्डियों की समस्या ऑस्टियोपोरोसिस को तो न्योता देती ही है, किडनी स्टोन की समस्या भी पैदा करती है। मीट प्रोटीन में प्लांट प्रोटीन के मुकाबले सल्फर भी ज्यादा होता है, जिससे ज्यादा एसिड पैदा होता है।

  • नमक की मात्रा कम करें

पथरी या किडनी से जुड़ी किसी भी समस्या में ज्यादा नमक ठीक नहीं है। ज्यादा नमक पेशाब में कैल्शियम की मात्रा बढ़ा देता है। इसलिए सब्जी में तो कम नमक होना ही चाहिए, साथ ही सलाद आदि में ऊपर से नमक छिड़कना बिल्कुल बंद कर दें।

  • कैल्शियम पर नियंत्रण करें

दूध और दूध से बने उत्पादों जैसे पनीर, हरी पत्तेदार सब्जियों में कैल्शियम पाया जाता है। इसकी कमी से हड्डियां और दांत कमजोर हो जाते हैं। यानी कैल्शियम शरीर के लिए जरूरी होता है, मगर किडनी स्टोन संबंधी समस्या में ज्यादा कैल्शियम हानिकारक होता है। इसलिए कैल्शियम लें जरूर, मगर उसकी मात्रा कम कर दें।

  • कोल्ड ड्रिंक है हानिकारक

सॉफ्ट ड्रिक, कोला डिंक्र आदि में फास्फोरिक एसिड का इस्तेमाल होता है, इसलिए ये पदार्थ किडनी स्टोन या किडनी की समस्या में सही नहीं हैं।

  • शराब भी नुकसानदायक

एल्कोहोलिक पदार्थों में प्यूरीन पाया जाता है, जो किडनी स्टोन के निर्माण में सहयोगी बनता है, इसलिए इस समस्या में शराब का सेवन भी ठीक नहीं है।

  • तला-भुना, ज्यादा चिकनाई वाला भोजन

इस तरह के भोजन से हमें न केवल किडनी के संदर्भ में, बल्कि संपूर्ण स्वास्थ्य की दृष्टि से भी ज्यादा-से-ज्यादा दूर ही रहना चाहिए।

यह पोस्ट भी जरूर पढ़े: Khujli ka Ilaj (हिंदी में) – Daad Khaj Khujli Treatment in Hindi

Conclusion

तो दोस्तों आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी आज हमने आपको Pathri ka ilaj और Pathri ke lakshan बताये में उम्मीद करता हु मेरे द्वारा दी गयी जानकारी आपको आसानी से समझ आई होगी | आपको हमारे ब्लॉग से Update रहना है तो Notification को Subscribe कर सकते है जिससे आपको जानकारी मिल सके |

धन्यवाद 🙂

5 (100%) 1 vote

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *